Friday, December 15, 2017
Home > अध्यात्म > रात में जलाएं इन 5 जगह पर दीपक- कभी नहीं होगी अन्न और धन की कभी – बरसेगा इतना पैसा

रात में जलाएं इन 5 जगह पर दीपक- कभी नहीं होगी अन्न और धन की कभी – बरसेगा इतना पैसा

इस साल दिवाली 19 अक्टूबर को पड़ रही है। दीपों का त्योहार कहे जाने वाले इस पर्व में गणेश भगवान और मां लक्ष्मी की पूजा होती है। पूरे घर में दीपक जलाए जाते हैं और बच्चे पटाखे फोड़ते हैँ। शास्त्रों में बताया गया है कि दिवाली की रात घर की कुछ ऐसी जगह हैं, जहां पर दीपक जलाने से मां लक्ष्मी का आशीर्वाद मिलता है। इससे व्यक्ति के भाग्य खुल जाते हैं।

मान्यताओं के अनुसार, दिवाली पर मां लक्ष्मी की कृपा पाने के लिए इन 5 जगहों पर दीपक जरूर जलाने चाहिए। कहा जाता है कि जब लक्ष्मी रात को घर आएं तो उन्हें इन जगहों पर दीप जरूर मिलने चाहिए। तभी मां लक्ष्मी उस जगह ठहरती हैं। अगली स्लाइड में जानें-जानें किन जगहों पर दीपक जलाने से मां लक्ष्मी प्रसन्न होती हैं:दिवाली की रात जिन जगह पर दीपक जलाने चाहिए, उनमें से भंडार भी एक है। घर का भंडार भी सबसे महत्वपूर्ण स्थान होता है। मान्यता है कि इस जगह दीपक जलाने से मां लक्ष्मी घर में कभी भी अन्न की कमी नहीं होने देतीं।

दिवाली की रात लोगों को देशी घी का दीपक घर के मुख्य द्वार पर जलाना चाहिए। लोग अपने घर के साथ-साथ मुख्य द्वार को भी सजाते हैँ। ऐसे में वहां दीपक भी जलाना आवश्यक है। मान्यता है कि चूंकि यहीं से मां लक्ष्मी का घर में आगमन होता है। इसलिए दिवाली की रात मुख्य दरवाजे पर दो दिए जरूर जलाने चाहिए।

अगर आप की कोई दुकान है तो उसकी तिजोरी या फिर घर में मौजूद तिजोरी में दीपक जरूर जलाएं। लेकिन इस दौरान यह जरूर ध्यान रखें कि जब दीपक जलाएं तो ऐसी जगह रखें जिससे आग न पकड़े। चूंकि, तिजोरी को धन का स्थान कहा जाता है इसलिए दिवाली पर तिजोरी में सुरक्षित जगह पर दीप जरूर जलाना चाहिए।

वाहन भी हमारी संपत्ति हैं और दिवाली घर में प्रत्येक वाहन के पास सुरक्षित जगह पर दीपक जरूर जलाना चाहिए। इससे घर में खुशहाली बढ़ती है और पैसों की तंगी भी दूर होती है।

दिवाली की रात जब आप दीपक जला रहे हों तो जहां जल के स्रोत से पानी निकल रहा हो वहां दीपक जरूर जलाना चाहिए। कहा जाता है कि इससे भी मां लक्ष्मी प्रसन्न होती हैं और आशीर्वाद देती हैं।

इस आलेख में दी गई जानकारियां धार्मिक आस्थाओं और लौकिक मान्यताओं पर आधारित हैं, जिसे मात्र सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखकर प्रस्तुत किया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *