Friday, December 15, 2017
Home > देश > मुस्लिम लड़की के इस बेहतरीन काम ने उड़ाई कट्टरपंथियों की नींद – जारी कर दिया फतवा – क्या यही कहता है इस्लाम ?

मुस्लिम लड़की के इस बेहतरीन काम ने उड़ाई कट्टरपंथियों की नींद – जारी कर दिया फतवा – क्या यही कहता है इस्लाम ?

छोटे शहर की एक मुस्लिम लड़की ने खुद का अपना काम करना शुरू किया तो कट्टरपंथियों ने आँखें तरेर लीं l रांची की रहने वाली मुस्लिम योग टीचर राफिया नाज़ को रांची पुलिस ने सुरक्षा मुहैया कराई है। बाबा रामदेव के साथ योग शिविर में नज़र आ चुकीं राफिया को कुछ मुस्लिम संगठनों से लगातार धमकियां मिल रही थीं।

हालांकि सोशल मीडिया पर तो यह भी दावा किया जा रहा है कि योग सिखाने के चलते उनके ख़िलाफ़ फतवा जारी किया गया है, मगर रांची पुलिस और खुद राफिया ने इससे इनकार किया है।

आपको बता दें कि 20 वर्षीय राफिया के नाम योग में 5 दर्जन से ज्यादा ट्रोफी और मेडल्स हैं और रांची में बाबा रामदेव के योग शिविर के दौरान भी राफिया ने उनके साथ योग किया था।

राफिया का कहना है कि ‘कुछ मुस्लिमों ने मेरे योग करने को लेकर कड़ी आपत्ति जताई थी, वे चाहते हैं कि मैं योग सिखाते वक्त बुर्का पहनूं।

राफिया ने बताया कि  ‘साल 2015 में हुए पहले अंतरराष्ट्रीय योग दिवस तक सब कुछ सही था। मगर उस दौरान मैंने एक बयान दिया था कि योग को धार्मिक नजरिए से नहीं देखना चाहिए, यह स्वस्थ रहने का बस एक साधन है, यह मुस्लिम धर्म के कुछ लोगों को पसंद नहीं आया और उन्होंने मुझे फोन और सोशल मीडिया पर धमकाना शुरू कर दिया।’

राफिया ने कहा कि पहले तो मैंने इन धमकियों को नज़रअंदाज कर दिया, मगर अब हालात ठीक नहीं लग रहे हैं जिस वजह से मुझे पुलिस सुरक्षा की जरूरत महसूस हुई।

राफिया को सुरक्षा देने के बारे में रांची के डोरंडा पुलिस स्टेशन के एसएचओ आबिद खान ने बताया कि  ‘राफिया को कुछ दिनों से धमकियां मिल रही थीं, हमें आदेश मिला कि उन्हें सुरक्षा मुहैया करानी है, जिसके बाद हमारे थाने से दो पुलिस कॉन्स्टेबल्स की तैनाती उनके साथ कर दी गई है।’  आबिद ने बताया कि  ‘मैंने खुद राफिया और उनके परिवार से बात की है और उन्हें भरोसा दिलाया है कि पुलिस उनके साथ है।’

अब जरा आप ही सोचिये कि क्या इस्लाम यही कहता है ? क्या एक लड़की अपने टेलेंट के हिसाब से काम भी नहीं कर सकती ? फतवा जारी करना मानो फैशन सा हो गया है l कुछ भी हो और जारी कर दो फतवा l क्या यही कहता है इस्लाम ?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *