Wednesday, January 17, 2018
Home > दुनिया > बहरीन में राहुल गांधी ने किया देश का अपमान, देखकर रह जाएंगे आप सब हैरान…

बहरीन में राहुल गांधी ने किया देश का अपमान, देखकर रह जाएंगे आप सब हैरान…

नई दिल्ली। अपने बहरीन के दौरे पर कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने भारतीय मूल के लोगों को संबोधित किया। ग्लोबल ऑर्गेनाइजेशन ऑफ पीपल ऑफ इंडियन ओरिजिन इवेंट के दौरान राहुल गांधी ने कहा कि भारत को दो बातों का खतरा है। पहला खतरा बेरोजगारी और दूसरा विभाजनकारी ताकत है।

राहुल गांधी ने कहा कि जितनी नौकरी चीन दो दिनों में देता है, उतनी नौकरी भारत एक साल में देता है। उन्होंने कहा कि हम विकास में पिछड़ गए हैं। नोटबंदी पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि इसकी वजह से नकारात्मक असर पड़ा है। कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि बेरोजगारी की वजह से युवाओं में गुस्सा भड़का है।

अपने संबोधन में राहुल गांधी ने नफरत और विभाजनकारी ताकतों को देश के लिए खतरा बताया। उन्होंने कहा कि देश में रोजगार, शिक्षा, स्वास्थ्य पर चर्चा नहीं होती। इस पर होती है क्या खाते हैं, क्या बोलते हैं? उन्होंने कहा, ”पत्रकार मारे जाते हैं..दलितों पर अत्याचार होता है..जज संदिग्ध हालत में मृत पाए जाते हैं।”

कांग्रेस अध्यक्ष बनने के बाद राहुल गांधी का यह पहला विदेशी दौरा है। लोगों को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि मैं भी इंसान हूं और मेरे से भी गलती हो सकती है। इसके साथ ही उन्होंने कहा, ”हम नई कांग्रेस बना रहे हैं और बीजेपी को हराना बड़ी बात नहीं है।”

 

राहुल ने कार्यक्रम को संबोधित करते हुए मौजूद केंद्र सरकार को रोजगार और शिक्षा व्यवस्था के मुद्दे पर घेरा है। उन्होंने कहा, ‘रोजगार के अवसर 8 साल के निचले स्तर पर हैं। गरीबी हटाने, रोजगार देने और शिक्षा व्यवस्था सुधारने की बजाए नफरत फैलाने और बांटने का काम हो रहा है।’

राहुल ने कहा, ‘आपकी प्रतिभा, कौशल, सहिष्णुता, देशभक्ति को आज भारत को जरूरत है। आप जिन भी देशों में रहे आपने उन्हें बनाने में अहम भूमिका निभाई है।’

राहुल गांधी की बहरीन यात्रा को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की नकल बताने वाले भाजपा प्रवक्ता को कांग्रेस ने करारा जवाब दिया है।

इसपर भाजपा नेता संबित पात्रा ने प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि भारत में राहुल गांधी का राजनीतिक कैरियर खतरे में है। राहुल विदेश दौरे कर रहे हैं और भारत की छवि को नीचे गिरा रहे हैं। उनकी साजिश सभी के सामने है और उनकी यह यात्रा एक नाकाम राजनीतिज्ञ का अपना कैरियर बचाने का अंतिम सहारा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *