Wednesday, January 17, 2018
Home > देश > इस मुस्लिम नेता ने की पीएम मोदी से ये मांग – देखते रह गये कट्टरपंथी – मुस्लिम संघठनों के भी उड़े होश

इस मुस्लिम नेता ने की पीएम मोदी से ये मांग – देखते रह गये कट्टरपंथी – मुस्लिम संघठनों के भी उड़े होश

देश के सिकुलर नेता लगातार पीएम मोदी और सरकार पर हमलावर हैं तो देश में दूसरी तरफ इस मुस्लिम धार्मिक नेता ने पीएम मोदी से ऐसी अपील की है, जिसे आप सही और बेहतर कहेंगे l हांलाकि ज़नाब की ये अपील कट्टरपंथियों को नहीं ठीक लग रही l

देश में गाय को लेकर चल रही बहस और विवादों के बीच एक और मुस्लिम धार्मिक नेता ने कहा है कि गाय को राष्ट्रीय पशु घोषित किया जाना चाहिए। ऑल इंडिया इमाम ऑर्गनाइजेशन (AIIO) के प्रमुख उमर अहमद इल्यासी ने बुधवार को एक धार्मिक समारोह में यह बात कही।

‘षष्टिपूर्ति महोत्सव’ नाम से आयोजित इस समारोह में इल्यासी ने कहा कि हिंदुओं में पवित्र माने जानेवाली गाय को राष्ट्रीय पशु घोषित किया जाना चाहिए। इल्यासी के इस बयान पर गुजरात यूनिवर्सिटी कन्वेन्शन हॉल में बैठे लोगों ने उनकी खड़े होकर सराहना की।

दिल्ली से जुड़ी एक कहानी को याद करते हुए इल्यासी ने कहा, ‘दो साल पहले एक जैन परिवार और एक मुस्लिम परिवार पड़ोसी थे। बकर ईद (बकरीद) के समय जैन परिवार दस दिन के लिए घर छोड़ देते थे क्योंकि मुस्लिम परिवार उस दिन बकरे की कुर्बानी देता था। जब मुझे इस बारे में पता चला तो मैंने मुस्लिम परिवार से कहा कि मानव धर्म हमें कहता है कि हमारे धार्मिक व्यवहारों से हमारे पड़ोसी को तकलीफ नहीं होनी चाहिए। उसके बाद मुस्लिम परिवार ने बकर ईद पर बाहर जाकर कुर्बानी देना शुरू कर दिया, ताकि जैन परिवार की भावनाएं आहत ना हों।’

इसके अलावा ने इल्यासी ने कहा कि उन्हें साबरमती नदी काफी साफ दिखी। उन्होंने कहा, ‘गंगा और यमुना जैसी नदियों को साबरमती जितना साफ किया जाना चाहिए। ना सिर्फ ये दोनों नदियां, बल्कि सभी नदियों को साबरमती की तरह साफ किया जाना चाहिए।’

हांलाकि ये भी माना जा रहा है कि इलयासी के इस बयान के बाद उन्हें दूसरे मुस्लिम धर्मगुरुओं का विरोध झेलना पड़ सकता है l इसके अलावा इलयासी के इस बयान को देश के सिकुलर और कट्टरपंथी नेता भी शायद ही पचा पायें l

आपको बता दें कि 1 सितम्बर को बकरीद है और इस से पहले उत्तर प्रदेश सरकार ने लखनऊ में ऊंटों की क़ुर्बानी को रोकने के लिए पूरे इंतजाम कर लिए हैं l

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *