Wednesday, January 17, 2018
Home > टेक्नोलॉजी > इजरायल – भारत की दोस्ती ने फिर दिखाया रंग – पीएम मोदी को ये ख़ास तोहफ़ा देंगे नेतन्याहू – कट्टरपंथियों के चेहरे पड़े फीके

इजरायल – भारत की दोस्ती ने फिर दिखाया रंग – पीएम मोदी को ये ख़ास तोहफ़ा देंगे नेतन्याहू – कट्टरपंथियों के चेहरे पड़े फीके

इजरायल और भारत की दोस्ती का नज़ारा उस वक़्त पूरी दुनिया ने देखा जब पीएम मोदी इजरायल पहुंचे और नेतान्याहू ने उन्हें हाथों हाथ लिया था l उस वक़्त समुन्द्र किनारे दोनों नेताओं के टहलने की तस्वीर ने पूरी दुनिया को चौंका दिया था l जिस तरह से उस वक़्त पीएम मोदी ने इजरायल जाने और फिलिस्तीन न जाने का फ़ैसला लिया था, उस से विपक्ष समेत दुनिया भर के कट्टरपंथी दंग रह गए थे l

आपको बता दें कि भारत ने 1950 में इजरायल को मान्यता दी थी, लेकिन उससे कूटनीतिक संबंध नहीं रखे। हालांकि राजनयिक संबंध न होने के बावजूद इजरायल के साथ भारत के सामरिक रिश्ते बेहतर रहे। 1962, 1965 और 1971 में जंग के वक्त इजरायल ने भारत को आधुनिक सैन्य साजोसामान की आपूर्ति की थी।

1985 में भारत के प्रधानमंत्री रहे राजीव गांधी ने अमेरिका में इजरायली समकक्ष शिमोन पेरेज से मुलाकात की थी। बाद में 1992 में तत्कालीन प्रधानमंत्री नरसिंह राव ने इजरायल के साथ कूटनीतिक संबंधों की शुरुआत की लेकिन पीएम मोदी से पहले किसी भी भारतीय प्रधानमंत्री ने इजरायल का दौरा नहीं किया था l दरअसल वोट बैंक की राजनीति हावी थी और डर यही था कि अगर इजरायल की यात्रा की तो कहीं देश में बसा मुस्लिम वोट बैंक नाराज़ न हो जाए l

पीएम मोदी ने बेधड़क होते हुए इजरायल की यात्रा की और इस से भी बड़ी बात ये कि पीएम मोदी अपनी यात्रा के दौरान इजरायल तो गए लेकिन उन्होंने फिलिस्तीन का दौरा नहीं किया और मुस्लिम देश फिलिस्तीन नहीं गए l

इसके बाद 2015 में राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी ने इजरायल की यात्रा की थी और ऐसा करने वाले वह देश के पहले राष्ट्रपति थे l इसके बाद विदेश मंत्री सुषमा स्वराज और गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने भी कुछ महीने पहले इजरायल का दौरा किया था।

अब इजरायली प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतान्याहू  14 जनवरी को भारत आ रहे हैं l 14 जनवरी से शुरू हो रही अपनी भारत यात्रा के दौरान अपने भारतीय समकक्ष नरेन्द्र मोदी को एक खास तोहफा देंगे। इस ख़बर के बाद देश और दुनिया के कट्टरपंथियों की नींद सी उड़ गयी है l असल में भारत और इजरायल की दोस्ती कट्टरपंथियों को क्कभी पसंद नहीं आई और अब जब नेतान्याहू के पीएम मोदी को ख़ास तोहफ़ा देने की ख़बरें आ रही हैं तो कट्टरपंथियों के चेहरे का रंग सा उड़ गया है l

ख़बरों के मुताबिक नेतन्याहू खारे पानी को पीने लायक शुद्ध बनाने वाले गल-मोबाइल जीप पीएम मोदी को तोहफे में देंगे। गौरतलब है कि पिछले साल जुलाई में अपनी इजरायल यात्रा के दौरान मोदी ने नेतन्याहू के साथ इस बुग्गी जीप  में बैठकर भूमध्य सागर के तट की सैर की थी और खारे पानी को पीने लायक बनाने का नमूना भी देखा था। सूत्रों ने बताया कि नेतन्याहू अब यही जीप मोदी को तोहफे में देने जा रहे हैं।

नेतन्याहू जहां अपने चार दिवसीय भारतीय दौरे की तैयारियों में जुटे हैं वहीं सूत्रों ने इस बात की पुष्टि की है कि जीप वास्तव में भारत के लिए रवाना भी हो चुकी है और इजरायली प्रधानमंत्री द्वारा मोदी को तोहफे में दिए जाने के लिए समय पर पहुंच जाएगी । बताया जा रहा है कि जीप की कीमत करीब 3.9 लाख शेकेल यानी करीब 70 लाख रुपये है।

नेतन्याहू का यह दौरा ऐसे समय में हो रहा है जब भारत ने हाल ही में इजरायल के साथ 50 करोड़ डॉलर की राफेल डील कैंसल कर दी है। माना जा रहा है कि नेतन्याहू भारत के समक्ष यह मुद्दा उठाएंगे। नेतन्याहू के साथ राफेल के सीईओ के भी भारत आने की संभावना है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *