Friday, December 15, 2017
Home > टेक्नोलॉजी > मोदी सरकार ने दी भारतीय थलसेना को ये ताक़त – पहली बार मिलेगा ये अचूक हथियार – पाक और चीन के उड़े होश..

मोदी सरकार ने दी भारतीय थलसेना को ये ताक़त – पहली बार मिलेगा ये अचूक हथियार – पाक और चीन के उड़े होश..

मोदी सरकार लगातार देश की सुरक्षा को मज़बूत करने में लगी है l एक तरफ जहाँ पाकिस्तान से लगी सीमाओं को सील किया जा रहा है तो वहीँ दूसरी तरफ भारतीय सेनाओं को नए हथियार और खुली छूट देकर मज़बूत बनाया जा रहा है l

इसी कड़ी में अब भारतीय थलसेना के लिए छह अपाचे अटैक हेलिकॉप्टर खरीदे जाएंगे। रक्षा मंत्रालय ने गुरुवार को इस संबंध में लंबित प्रस्ताव को मंजूरी दे दी। इन हेलिकॉप्टरों की खरीद पर 4,168 करोड़ रुपए का खर्च आएगा और थलसेना को पहली बार अटैक हेलिकॉप्टर मिलेंगे।

इन हेलिकॉप्टर की खासियतें भी हम आपको बताएँगे लेकिन उस से पहले ये जान लीजिये कि रक्षा मंत्री अरुण जेटली की अध्यक्षता वाली रक्षा खरीद परिषद (डीएसी) की बैठक में सौदे को हरी झंडी दिखाई गई। इसके साथ ही डीएसी ने नौसेना के जहाजों के लिए 490 करोड़ रुपए के दो गैस टरबाइन इंजन खरीदने के प्रस्ताव को भी मंजूरी दी। अब रक्षा संबंधी मंत्रिमंडलीय समिति से सौदे की मंजूरी लेनी होगी। सेना के सूत्रों के मुताबिक, 2020 तक हेलिकॉप्टर की आपूर्ति होने की उम्मीद है।

अमेरिका की बोइंग कंपनी से छह अपाचे एएच-64 ई हेलिकॉप्टर स्पेयर पा‌र्ट्स, हथियार और संबंधित उपकरणों के साथ खरीदे जाएंगे। हेलिकॉप्टर पूर्व हुए सौदे में 50 फीसद रिपीट ऑर्डर के विकल्प के तहत खरीदे जा रहे हैं।

बोइंग के साथ सितंबर 2015 में वायुसेना के लिए 22 अपाचे अटैक हेलिकॉप्टर और 15 चिनुक हेवी लिफ्ट हेलिकॉप्टर के सौदे पर हस्ताक्षर किए गए थे। आपको बता दें कि सेना लंबे समय से अपने लिए अटैक हेलिकॉप्टर के बेंड़े की मांग कर रही थी।

गौरतलब है कि मौजूदा समय में वायुसेना के पास रूसी एमआइ-25 और एमआइ-35 अटैक हेलिकॉप्टरों का बेड़ा है और इसका इस्तेमाल थलसेना भी करती है। मंजूर किए गए एक अन्य सौदे में उक्रेन से दो गैस टरबाइन इंजन भी खरीदे जाएंगे। इन्हें रूस में बन रहे भारतीय नौसेना के दो जहाजों में लगाया जाएगा।

पिछले साल अक्टूबर में रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के भारत दौरे में रूस के साथ चार जहाजों (फ्रिजेट) के लिए समझौता हुआ था। इस समझौते के मुताबिक़ दो जहाजों का निर्माण रूस में होगा और दो का निर्माण रूस के सहयोग से भारतीय शिपयार्ड में होगा।

अगर अपाचे हेलिकॉप्टर की खूबियों की बात करें तो….

  • 30 एमएम गन जो किसी भी निशाने को तहस-नहस कर सकता है।
  • 293 किमी प्रतिघंटे की रफ्तार से उड़ने में सक्षम।
  • 18 मीटर लंबा और दो पायलटों की सीट।

  • 5,165 किलोग्राम है इसका वजन।
  • 2000 हेलिकॉप्टरों का मौजूदा समय में हो रहा इस्तेमाल।
  • 30 सितंबर 1975 को हुई थी इसकी पहली उड़ान।
  • एजीएम-114 हेलीफायर मिसाइल और हाइड्रा 70 रॉकेट पॉड्स से लैस।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *