Wednesday, January 17, 2018
Home > देश > पीयूष गोयल के रेल मंत्रालय ने पेश की नयी मिसाल – महज़ 7 घंटे में यहाँ बना दिया नया पुल – पूरे देश में हुई तारीफ़

पीयूष गोयल के रेल मंत्रालय ने पेश की नयी मिसाल – महज़ 7 घंटे में यहाँ बना दिया नया पुल – पूरे देश में हुई तारीफ़

पीएम मोदी के नेतृत्व में भारत की मोदी सरकार लगातार देश को आगे बढ़ाने का काम कर रही है और लगभग हर विभाग देश के नज़रिए से अपना बेस्ट देने की कोशिश कर रहा है l इस बार एक मिसाल कायम की है भारतीय रेलवे ने l जी हाँ जिस रेलवे में लेटलतीफी कभी हावी हुआ करती थी, उसी रेलवे ने काम करने की ऐसी मिसाल पेश की है कि पीएम मोदी भी हैरान हैं l

दरअसल भारतीय रेलवे ने यूपी में महज़ साथ घंटों में नया ब्रिज बनाकर टीम वर्क की मिसाल पेश कर दी है l पहले इस पुल पर ट्रेनें धीमी गति से गुजरती थीं और नजीबाबाद – मुरादाबाद रेललाइन के बीच बुंदकी स्टेशन के पास डाउन लाइन का पुलस सौ साल से ज्यादा पुराना था l इसे बनाकर रेलवे के इंजीनियरिंग विभाग ने काबिल-ए-तारीफ काम किया है l

रेलवे के इंजीनियरिग विभाग ने बुधवार को अपनी कार्य कुशलता का परिचय दिया। सात घंटे में ही करीब सौ साल पुराने पुल को तोड़कर उसकी जगह नया बना दिया। इस दौरान लक्सर-मुरादाबाद के बीच रेल यातायात बंद रहा। नए पुल से सबसे पहले देहरादून से इलाहाबाद जाने वाली लिंक एक्सप्रेस सफलतापूर्वक गुजरी।

रेलवे की टीम ने सात घंटे में पुराने पुल को तोड़कर उसकी जगह तीन जनवरी को नया पुल बनाया l नए पुल से सबसे पहले देहरादून से इलाहाबाद जाने वाली लिंक एक्सप्रेस सफलतापूर्वक गुजरी l पहले बुंदकी स्टेशन के नज़दीक डाउन लाइन पर बने पुराने पुल पर गुजरने के दौरान ट्रेनों की गति बहुत धीमी रखी जाती थी l

नजीबाबाद-मुरादाबाद के बीच बुंदकी स्टेशन के पास डाउन लाइन पर पुल सौ साल से अधिक पुराना हो गया था और जर्जर भी था। पुल से धीमी गति से ट्रेनें गुजारी जा रही थीं। बुधवार की सुबह 9.35 बजे प्रवर मंडल अधीक्षण अभियंता प्रथम पारितोष गौतम तकनीकी स्टाफ के साथ वहां पहुंचे।

मीडिया में आई ख़बरों के मुताबिक,  तीन जनवरी की सुबह 9.35 बजे प्रवर मंडल अधीक्षण अभियंता प्रथम पारितोष गौतम तकनीकी स्टाफ के साथ वहां पहुंचे l पूरी टीम के साथ फिर पुल के ऊपर बनी रेल लाइन को हटाने, पुराने पुल को तोड़ने और मलबा हटाने का काम दोपहर 1.24 बजे तक पूरा कर दिया गया और इसके बाद शुरू हुआ नया पुल बनाने का काम l दोपहर तीन बजे तक फैब्रिकेटिंग मैटेरियल से पुल का ढांचा भी रख दिया गया l

क्रेन और अत्याधुनिक उपकरणों के जरिये पुल के ऊपर से गुजरने वाली रेल लाइन को हटाने, पुराने पुल को तोड़ने और मलबा हटाने का काम दोपहर 1.24 बजे तक पूरा कर लिया गया। इसके बाद फैब्रिकेटिंग मैटेरियल से पुल का निर्माण शुरू कर दिया गया। दोपहर 3.05 बजे पुल का ढांचा रख दिया गया।

सात घंटे 20 मिनट बाद शाम सवा पांच बजे के क़रीब नए पुल पर लाइन डालने का काम पूरा हो गया और शाम 5.40 बजे देहरादून से इलाहाबाद जाने वाली लिंक एक्सप्रेस को धीमी गति से नए पुल से गुज़ारा गया l

मंडल रेल प्रबंधक अजय कुमार सिंघल ने उम्मीद जताई है कि अब बुंदकी से गुज़रनी वालीं ट्रेनें सौ किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से दौड़ सकेंगी l मंडल रेल प्रबंधक अजय कुमार सिंघल का कहना है कि सात घंटे में पुराने पुल को तोड़कर नए पुल का निर्माण करने पर टीम बधाई की पात्र है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *