Friday, December 15, 2017
Home > दुनिया > चीनी सरकार के बाद अब चीनी सेना की भारत को गीदड़भभकी – भारत ने भी दिया ये जोरदार ज़बाव

चीनी सरकार के बाद अब चीनी सेना की भारत को गीदड़भभकी – भारत ने भी दिया ये जोरदार ज़बाव

सिक्किम के डोकलाम को लेकर भारत और चीन में तनातनी लगातार जारी है l लगातार चीन गीदड़भभभकियां दे रहा है l कभी चीनी सरकार का कोई अधिकारी धमकी देता है तो कभी चीनी मीडिया, लेकिन इस बार चीनी सेना बोली है l इस बार चीनी सेना ने भारत को गीदड़भभकी दी है l

चीन की सरकार के बाद अब पहली बार चीनी सेना ने भी डोकलाम को लेकर धमकी दी है l चीनी सेना ने जारी अपने बयान में चेतावनी के लहजे में कहा है कि डोकलाम से भारत की सेना पीछे हट जाए नहीं तो हम अपनी संख्या और बढ़ा देंगे l गौरतलब है कि डोकलाम को लेकर भारत और चीन में काफी दिनो से तनाव जारी है और आए दिन चीन की सरकार की ओर से धमकी आती रहती है लेकिन ये पहली बार है कि चीनी सेना ने बयान जारी कर गीदड़भभकी दी है l चीनी सेना ने कहा है कि वो संप्रभुता की रक्षा के लिए कुछ भी करेंगे और पीपुल्स लिबरेशन आर्मी ने भारत से कहा है कि किसी भी कीमत पर संप्रभुता की रक्षा की जाएगी l

1 अगस्त को पीएलए की 90 वीं वर्षगांठ से पहले एक विशेष ब्रीफिंग में पीएलए ने डॉकलाम पर एक मजबूत संदेश दिया है l PLA की तरफ से साथ ही कहा गया है कि डोकलाम में तैनाती भी बढ़ाई जाएगी l राष्ट्रीय रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता वरिष्ठ कर्नल वू कियान ने कहा कि पिछले 90 वर्षों में पीएलए का इतिहास संप्रभुता और इलाक़े की अखंडता की रक्षा  के लिए हमारे संकल्प और हमारी क्षमता को साबित करता है l

पीएलए ने यह भी कहा कि इस घटना के जवाब में एक “आपातकालीन प्रतिक्रिया” के तौर पर क्षेत्र में और अधिक चीनी सेना उतार सकती है l इसके साथ ही वरिष्ठ कर्नल वू कि़आन ने रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता से डोकलाम पठार पर चीन के सड़क निर्माण का पक्ष भी रखा l आपको बता दें कि चीन डोकलाम को डोंगलंग के नाम से संबोधित करता है l

कि़आन ने कहा, “जून के मध्य में, चीनी सेना ने एक सड़क के निर्माण की जिम्मेदारी ली थी. डोंगलंग चीन का क्षेत्र है और चीन का अपने क्षेत्र में सड़क निर्माण करना एक सामान्य घटना है. यह चीन की संप्रभुता का कार्य है और वैध है l”

उन्होंने आगे कहा, “भारत द्वारा चीन के क्षेत्र में घुसना परस्पर मान्यता प्राप्त अंतरराष्ट्रीय सीमा का एक गंभीर उल्लंघन है और यह अंतरराष्ट्रीय कानून के खिलाफ है l हम अपनी संप्रभुता की रक्षा किसी भी कीमत पर करेंगे l”

उधर आपको बता दें कि भारत पहले ही ये कह चुका है कि वो किसी भी कीमत पर अपनी सेना को डोकलांग से तब तक नहीं हटाएगा, जब तक कि चीन वहां से अपनी सेना नहीं हटा लेता l

भारतीय विदेश मंत्री सुषमा स्वराज राज्यसभा में ये कह चुकी हैं कि भारत के साथ दुनिया के कई देश हैं और वो डोकलाम में भारत के पक्ष को सही मानते हैं, लिहाज़ा भारत हर तरह से तैयार और चौकन्ना तो है है, साथ ही वो डोकलाम से अपनी सेना तब तक नहीं हटाएगा, जब तक कि चीन वहां से अपनी सेना नहीं हटा लेता l

ख़बरें ये भी हैं कि भारत ने चीन से सटे सीमावर्ती इलाक़ों में अपनी तैयारियां और पुख्ता कर ली हैं और लद्दाख में भी भारतीय सेना हर तरह से तैयार है l इसके अलावा भारत ने ब्रह्मोस मिसाइल को भी चीन से सटे इलाक़ों में तैनात किया है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *