Wednesday, January 17, 2018
Home > देश > अलगाववादी नेताओं के बिगड़े दिमाग – सुप्रीम कोर्ट को ही दे डाली धमकी – कश्मीर को फिलिस्तीन बनाने की दे डाली धमकी

अलगाववादी नेताओं के बिगड़े दिमाग – सुप्रीम कोर्ट को ही दे डाली धमकी – कश्मीर को फिलिस्तीन बनाने की दे डाली धमकी

कश्मीर के अलगाववादी नेताओं ने अब अपनी सारी हदों को पार करते हुए सुप्रीम कोर्ट और देश की मोदी सरकार को खुला चैलेंज दे डाला है l हुर्रियत नेताओं का कहना है कि अगर सुप्रीम कोर्ट से कश्मीर की धारा 35 A के ख़िलाफ़ फ़ैसला आया तो वो खुली बग़ावत करेंगे l

आज देशभर के लिए बहुत बड़ा दिन है सुप्रीम कोर्ट में आज संविधान के आर्टिकल 35A को लेकर दायर की गई याचिकाओं पर सुनवाई होगी और जिसके लिए मोदी सरकार जी तोड़ से लगी हुई है l हालाँकि पिछले कई फ़ैसले कोर्ट के लोगों को ज़रा खटके हैं और इसकी सुनवाई भी वही जज कर रहे हैं जिन्होंने दिवाली पर ही केवल पटाखों पर बैन लगाया था l इस बीच अलगाववादियों ने बेहद चौंकाने वाला ज़हर उगल दिया है l

अलगाववादियों के अंदर डर का माहौल अभी से पैदा हो गया है कि अगर कहीं कोर्ट ने अनुच्छेद 35A ख़त्म कर दिया तो उनकी घाटी में फैलाई हुई दहशत और कश्मीरी पंडितों पर अत्याचार करने वाले प्लान पर पानी फिर जाएगा l इसलिए अलगाववादी नेताआें ने अनुच्छेद 35A को रद्द करने की मांग वाली याचिकाओं पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई से ठीक पहले जम्मू-कश्मीर को फिलिस्तीन बनाने की गीदड़ भभकी दी है l

अलगाववादियों ने लोगों से सड़कों पर उतरने की अपील करते हुए कहा कि राज्य सूची के विषय से छेड़छाड़ फिलिस्तीन जैसी स्थिति पैदा करेगा l नेता अली शाह गिलानी, मीरवाइज उमर फारूक और मोहम्मद यासिन मलिक ने कहा कि यदि सुप्रीम कोर्ट राज्य के लोगों के हितों और आकांक्षा के ख़िलाफ़ कोई फ़ैसला देता है, तो लोग विद्रोह पर उतर आएंगे l वैसे शायद ये नेता भूल गए अभी कुछ दिन पहले ही राजपाल ने अध्यादेश जारी कर दिया है कि अगर एक भी सरकारी या निजी संपत्ति का नुकसान हुआ तो इन्ही विद्रोहियों से वसूला जायेगा और 5 साल जेल में अलग से l

दरअसल अनुच्छेद 35A को काफी लम्बे वक़्त से ख़त्म करने की मांग उठ रही है और अनुच्छेद 35-ए जम्मू-कश्मीर को राज्य के रूप में विशेष अधिकार देता है l याचिका में आर्टिकल 35A के कुछ विशेष प्रावधानों को चुनौती दी गई है, जैसे राज्य के बाहर के किसी व्यक्ति से शादी करने वाली महिला को संपत्ति का अधिकार नहीं मिलना l

इस प्रावधान के तहत राज्य के बाहर के किसी व्यक्ति से शादी करने वाली महिला का संपत्ति पर अधिकार समाप्त हो जाता है और इतना ही नहीं उसके बेटे को भी संपत्ति का अधिकार नहीं मिलता, लेकिन आर्टिकल 35A को रद्द करने की मांग वाली याचिकाओं पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई से ठीक पहले जम्मू-कश्मीर के तीन बड़े अलगाववादियों ने घाटी में माहौल खराब करने की धमकी दी है l

हालाँकि अब मोदी सरकार है और अलगाववादियों के दिन वैसे ही दिन खराब चल रहे हैं, इनकी करोड़ की संपत्ति जब्त हो चुकी है, इनके एटीएम ज़हूर वताली गिरफ्तार हो चुका है, एक अलगाववादी नेता ने हैफ़ सईद से रिश्ते कबूल लिए हैं. यही वजह है कि ऐसे लोग शांति भंग करने की हर कोशिश करते रहते हैं l

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *